लखीमपुर: सनातन धर्म सरस्वती शिशु मंदिर मिश्राना में दामोदर मेनन जी का मनाया गया जन्म दिवस

लखीमपुर: सनातन धर्म सरस्वती शिशु मंदिर मिश्राना में दामोदर मेनन जी का मनाया गया जन्म दिवस
लखीमपुर। सरस्वती शिशु मंदिर मिश्राना में दामोदर मेनन का जन्म दिवस मनाया गया। दामोदर मेनन भारत के प्रमुख स्वतन्त्रता सेनानियों में से एक थे। तत्कालीन समय में उनकी गिनती देश के बेहतरीन पत्रकारों में की जाती थी। उन्होंने महात्मा गाँधी के ‘नमक सत्याग्रह’ और ‘सविनय अवज्ञा आन्दोलन’ में सक्रिय रूप से भाग लिया। समाजवादी विचारों के होते हुए भी दामोदर मेनन गाँधी जी के अहिंसा के सिद्धांत में विश्वास करते थे।
     उन्होंने क़ानून की डिग्री प्राप्त की थी।पंडित जवाहर लाल नेहरू तथा महात्मा गाँधी का उनके जीवन पर व्यापक प्रभाव था। 1957 में उन्हें केरल विधान सभा का सदस्य चुना गया था। दामोदर मेनन की गिनती उच्च कोटि के पत्रकारों में भी की जाती है। इनके आर्थिक विचार बड़े ही उदार हुआ करते थे। दामोदर मेनन ने ‘महाराजा कॉलेज’, त्रिवेंद्रम और ‘रंगून यूनिवर्सिटी’, बर्मा (वर्तमान म्यांमार) से शिक्षा पाई थी। इसके बाद इन्होंने त्रिवेंद्रम से क़ानून की डिग्री ली।
 
किन्तु उनकी रुचि सार्वजनिक कार्यों और पत्रकारिता में अधिक थी। वे गाँधी जी और जवाहरलाल नेहरू जी से प्रेरित होकर वे स्वतंत्रता-संग्राम में सम्मिलित हो गए। 1930 ई. के नमक सत्याग्रह और 1932 ई. के सविनय अवज्ञा आंदोलन में उन्होंने सक्रिय भाग लिया और जेल में भी रहे। ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ में भी वे 1942 से 1945 तक बंद रहे। 1948 तक प्रसिद्ध मलयालम दैनिक ‘मातृभूमि’ के संपादक के रूप में उन्होंने जन-जागरण के लिए महत्त्वपूर्ण काम किया।