लखनऊ: सरस्वती शिशु विद्या मंदिर इंदिरा नगर लोकमान्य तिलक की मनाई गई जयंती

लखनऊ: सरस्वती शिशु विद्या मंदिर इंदिरा नगर लोकमान्य तिलक की मनाई गई जयंती
लखनऊ। सरस्वती शिशु विद्या मंदिर इंदिरा नगर में लोकमान्य तिलक का जन्म दिवस मनाया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ सरस्वती वंदना में दीप प्रज्जवलन व पुष्पार्चन कर किया गया। प्रधानाचार्य जी ने आचार्यों को संबोधित करते हुए कहा कि लोकमान्य तिलक ने जनजागृति का कार्यक्रम पूरा करने के लिए महाराष्ट्र में गणेश उत्सव तथा शिवाजी उत्सव सप्ताह भर मनाना प्रारंभ किया। इन त्योहारों के माध्यम से जनता में देशप्रेम और अंगरेजों के अन्यायों के विरुद्ध संघर्ष का साहस भरा गया।
तिलक के क्रांतिकारी कदमों से अंगरेज बौखला गए और उन पर राष्ट्रद्रोह का मुकदमा चलाकर छ: साल के लिए 'देश निकाला' का दंड दिया और बर्मा की मांडले जेल भेज दिया गया।
इस अवधि में तिलक ने गीता का अध्ययन किया और गीता रहस्य नामक भाष्य भी लिखा। तिलक के जेल से छूटने के बाद जब उनका गीता रहस्य प्रकाशित हुआ तो उसका प्रचार-प्रसार आंधी-तूफान की तरह बढ़ा और जनमानस उससे अत्यधिक आंदोलित हुआ।