टोक्यो: 41 साल बाद हॉकी टीम ने देशवासियों को दी ऐतिहासिक सौगात, खुशी से हुईं आँखें नम

टोक्यो: 41 साल बाद हॉकी टीम ने देशवासियों को दी ऐतिहासिक सौगात, खुशी से हुईं आँखें नम
टोक्यो: 41 साल बाद हॉकी टीम ने देशवासियों को दी ऐतिहासिक सौगात, खुशी से हुईं आँखें नम
  • भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने जर्मनी को 5-4 से हराकर टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक हासिल किया

टोक्यो। भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने यहां गुरुवार को टोक्यो ओलंपिक में जर्मनी को हरा कर 41 वर्षाें बाद ओलंपिक कांस्य पदक जीत कर पदक का सूखा खत्म किया। 1980 के माॅस्को ओलंपिक खेलों के बाद यह भारत का पहला ओलंपिक हॉकी पदक है। वहीं यह ओलंपिक के इतिहास में भारत का तीसरा हॉकी कांस्य पदक है। अन्य दो कांस्य पदक 1968 मेक्सिको सिटी और 1972 म्यूनिख खेलों में आए थे।

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने ओवरऑल ओलंपिक में 12 पदक जीते हैं, जिसमें आठ स्वर्ण, एक रजत और तीन कांस्य पदक शामिल हैं। मैच की बात करें तो दोनों टीमों ने अपनी ताकत के साथ हॉकी खेली। जर्मनी शुरुआत में भारत के मुकाबले थोड़ा हावी रहा। दूसरे मिनट में पहला गोल भी जर्मनी की तरफ से ही हुआ। मिडफील्डर ओरुज तिमूर ने शानदार गोल करते हुए टीम को 1-0 से बढ़त दिलाई। इसके बाद भारत ने एक गोल की तलाश में आक्रामकता दिखाई, लेकिन गोल नहीं हो पाया और पहला क्वार्टर 1-0 के स्कोर पर समाप्त हुआ।

ओलिंपिक में भारत ने जीता तीसरा ब्रॉन्ज
भारतीय मेंस हॉकी टीम ने टोक्यो ओलिंपिक में भारत के लिए 5वां मेडल जीता है. वहीं ओलिंपिक के इतिहास में ये भारतीय हॉकी के नाम हुआ तीसरा ब्रॉन्ज मेडल है. इससे पहले 1968 के ओलिंपिक में भारत ने ब्रॉन्ज मेडल मैच में वेस्ट जर्मनी को 2-1 से हराया था जबकि 1972 के ओलिंपिक में खेले ब्रॉन्ज मेडल मैच में भारत ने नीदरलैंड्स को 2-1 से हराया था.

जर्मनी का पलड़ा था भारी, भारत की पूरी थी तैयारी
रियो ओलिंपिक के बाद ये छठी बार था जब भारत और जर्मनी की मेंस हॉकी टीम आमने सामने हुई थी. इससे पहले खेले 5 मुकाबलों में बाजी 3-1 से जर्मनी के नाम थी. जबकि एक मुकाबला ड्रॉ रहा था. गोलों की संख्या में भी इन 5 मुकाबलों में जर्मनी आगे था. भारत ने 4 गोल पिछले 5 मैच में किए थे तो जर्मनी ने 7 गोल दागे थे. लेकिन टोक्यो की टर्फ पर और खेलों के सबसे बड़े मंच पर भारत ने जर्मनी को हराकर बता दिया कि सौ सोनार की तो एक लोहार की. 1985 के बाद ये पहली बार था जब भारत ने जर्मनी के खिलाफ 5 गोल दागे थे.