जालौन : स.वि.मं.इं.कॉ.उरई में मनाई गयी ओजस्वी कवि डॉ० शिवमंगल सिंह जी की जयंती

जालौन : स.वि.मं.इं.कॉ.उरई में मनाई गयी ओजस्वी कवि डॉ०  शिवमंगल सिंह जी की जयंती
जालौन। सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज, झांसी रोड, उरई में ओजस्वी कवि डा. शिवमंगल सिंह "सुमन" जी की जयंती मनाई गयी । इस मौके पर विद्यालय के प्रधानाचार्य जी उनके बारे में अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि इन दिनों कविता के नाम पर प्रायः चुटकुले और फूहड़ता को ही मंचों पर अधिक स्थान मिल रहा है। यद्यपि श्रेष्ठ काव्य के श्रोताओं की कमी नहीं है; पर फिल्मों और दूरदर्शन के स्तरहीन कार्यक्रमों ने काव्य जैसी दैवी विधा को भी बाजार की वस्तु बना दिया है। वरिष्ठ कवि डा. शिवमंगल सिंह 'सुमन' अपने ओजस्वी स्वर से आजीवन इस प्रवृत्ति के विरुद्ध गरजते रहे।  पांच अगस्त, 1916 को ग्राम झगरपुर (जिला उन्नाव, उ.प्र.) में जन्मे मेधावी छात्र शिवमंगल सिंह ने प्रारम्भिक शिक्षा अपने जन्मक्षेत्र में ही पाकर 1937 में ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज से बी.ए. किया। इसके बाद 1940 में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से एम.ए. तथा 1950 में डी.लिट. की उपाधियां प्राप्त कर उन्होंने अध्यापन को अपनी आजीविका बनाया। वे अच्छे सुघढ़ शरीर के साथ ही तेजस्वी स्वर के भी स्वामी थे। फिर भी उन्होंने अपना उपनाम 'सुमन' रखा, जो सुंदरता और कोमलता का प्रतीक है।