कन्नौज : स.वि.मं.इ.कॉ.तिर्वा में मनाई गई संत तुकाराम जी जयंती

कन्नौज : स.वि.मं.इ.कॉ.तिर्वा में मनाई गई संत तुकाराम जी जयंती
कन्नौज । सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज में वंदना सत्र के पश्चात महाराष्ट्र के प्रसिद्ध संत तुकाराम जी की जयंती मनाई गई। संत तुकाराम जी के बारे में बताते हुए विद्यालय के प्रधानाचार्य श्री अनिल कुमार मिश्रा जी नें कहा कि संत तुकाराम का जन्म पुणे जिले के अंतर्गत देहू नामक ग्राम में सन्‌ 1598 में हुआ। पूर्व के आठवें पुरुष विश्वंभर बाबा से इनके कुल में विट्ठल की उपासना बराबर चली आ रही थी। इनके कुल के सभी लोग पंढरपुर की यात्रा (वारी) के लिये नियमित रूप से जाते थे। देहू गाँव के महाजन होने के कारण वहाँ इनका कुटूंब प्रतिष्ठित माना जाता था। इनकी बाल्यावस्था माता कनकाई व पिता बहेबा (बोल्होबा) की देखरेख में अत्यंत दुलार से बीती, किंतु जब ये प्राय:18 वर्ष के थे इनके माता-पिता का स्वर्गवास हो गया तथा इनकी दूसरी पत्नी जीजा बाई बड़ी ही कर्कशा थी। ये सांसारिक सुखों से विरक्त हो गए। चित्त को शांति मिले। इस विचार से तुकाराम प्रतिदिन देहू गाँव के समीप भावनाथ नामक पहाड़ी पर जाते और भगवान्‌ विट्ठल के नामस्मरण में दिन व्यतीत किये। परमेश्वर प्राप्ति के लिये उत्कंठित तुकाराम को बाबा जी चैतन्य नामक साधु ने माघ शुद्ध 10 शके 1541 में 'रामकृष्ण हरि' मंत्र का स्वप्न में उपदेश दिया। इसके उपरांत इस प्रकार भगवत धर्म का सबको उपदेश करते व परमार्थ मार्ग को आलोकित करते हुए अधर्म का खंडन करनेवाले तुकाराम ने फाल्गुन बदी (कृष्ण) द्वादशी, शके 1571 को देहविसर्जन किया। इस अवसर पर विद्यालय के सभी आचार्य बंधु एवं आचार्या बहनें उपस्थित रहीं।