लखनऊ : ​क्षेत्रीय खेलकूद कार्य योजना बैठक में अंतरराष्ट्रीय एथलीट व पद्मश्री से सम्मानित सुधा सिंह जी का प्राप्त हुआ मार्गदर्शन

लखनऊ : ​क्षेत्रीय खेलकूद कार्य योजना बैठक में अंतरराष्ट्रीय एथलीट व पद्मश्री से सम्मानित सुधा सिंह जी का प्राप्त हुआ मार्गदर्शन
लखनऊ : ​क्षेत्रीय खेलकूद कार्य योजना बैठक में अंतरराष्ट्रीय एथलीट व पद्मश्री से सम्मानित सुधा सिंह जी का प्राप्त हुआ मार्गदर्शन
लखनऊ : ​क्षेत्रीय खेलकूद कार्य योजना बैठक में अंतरराष्ट्रीय एथलीट व पद्मश्री से सम्मानित सुधा सिंह जी का प्राप्त हुआ मार्गदर्शन
लखनऊ : ​क्षेत्रीय खेलकूद कार्य योजना बैठक में अंतरराष्ट्रीय एथलीट व पद्मश्री से सम्मानित सुधा सिंह जी का प्राप्त हुआ मार्गदर्शन
लखनऊ : ​क्षेत्रीय खेलकूद कार्य योजना बैठक में अंतरराष्ट्रीय एथलीट व पद्मश्री से सम्मानित सुधा सिंह जी का प्राप्त हुआ मार्गदर्शन
लखनऊ : ​क्षेत्रीय खेलकूद कार्य योजना बैठक में अंतरराष्ट्रीय एथलीट व पद्मश्री से सम्मानित सुधा सिंह जी का प्राप्त हुआ मार्गदर्शन
  • क्षेत्रीय खेलकूद कार्य योजना बैठक में अंतरराष्ट्रीय एथलीट व पद्मश्री से सम्मानित सुधा सिंह जी का प्राप्त हुआ मार्गदर्शन
  • खेलों को बढ़ावा देने के लिए हर संभव प्रयास करना हमारा कर्तव्य : सुधा सिंह जी
  • सुधा सिंह जी ने खेल के क्षेत्र में विद्या भारती के प्रयासों की सराहना की 

लखनऊ, 23 अक्टूबर 2021 शनिवार

सरस्वती कुंज निरालानगर स्थित विद्याा भारती पूर्वी उत्तर प्रदेश के क्षेत्रीय कार्यालय में क्षेत्रीय खेलकूद कार्य योजना की बैठक सम्पन्न हुई। इस बैठक का शुभारम्भ क्षेत्रीय संगठन मंत्री मा. हेमचन्द्र जी व क्षेत्रीय खेलकूद प्रमुख मा. जगदीश कुमार जी  ने मां सरस्वती के सामने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इस अवसर पर बैठक को संबोधित करते हुए अंतरराष्ट्रीय एथलीट व पद्मश्री से सम्मानित सुधा सिंह जी ने कहा कि विद्या भारती से हमारे खिलाड़ी भैया-बहन अरन्तराष्ट्रीय स्तर पर पदक प्राप्त करे मुझसे भी अच्छा प्रदर्शन करें, ऐसी मेरी अपेक्षा है। इस सम्बन्ध में विद्या भारती की पूर्व खिलाड़ी व विद्या भारती परिवार की बेटी होने के नाते, मुझसे जितना सहयोग चाहिए उसके लिए मैं सदैव तत्पर हूं। 

सुधा सिंह जी ने आगे कहा कि खेलों को बढ़ावा देने के लिए हर संभव प्रयास करना हम सभी का कर्तव्य है। खेल के क्षेत्र में देश की स्थिति पहले से अच्छी है आवश्यकता है तो सिर्फ हम सभी प्रशिक्षकों के मार्गदर्शन करने का। उन्होंने कहा कि विद्या भारती जिस प्रकार खेल के क्षेत्र में प्रयासरत है उसका प्रत्यक्ष प्रमाण मैं, स्वयं, झाँसी की शैली सिंह, हिमाचल के निषाद कुमार आदि खिलाड़ी हैं। मेरा सभी प्रशिक्षकों से आग्रह है कि वे अपने-अपने क्षेत्र में खेल को बढ़ावा देने में अपना पूरा प्रयास करें। बता दें कि सुधा सिंह जी विद्या भारती के विद्यालय सरस्वती शिशु मंदिर रायबरेली की पूर्व छात्रा भी हैं। एथलीट सुधा सिंह मूलत: ग्राम पोस्ट भिमी, जिला अमेठी की रहने वाली हैं। फिलहाल वो अपने परिवार के साथ रायबरेली जिले के शिवजी नगर कॉलोनी में रहती हैं।

सुधा सिंह के पिता हरिनारायण सिंह सेवानिवृत्त आईटीआई कर्मी है। वहीं, मां गृहणी और छोटा भाई प्रवेश नारायण सिंह एफजीआइईटी में प्रोफेसर हैं।  सुधा का मन बचपन से ही खेल कूद में लगता था, जिसके चलते स्कूल में होने वाली खेल प्रतियोगिता में वो हमेशा हिस्सा लेकर प्रथम, द्वितीय स्थान प्राप्त करती थी। खेल के दम प्रदेश की तत्कालीन सरकार में रानी लक्ष्मीबाई और यश भारती अवार्ड से सम्मानित हासिल कर चुकी हैं।  सुधा ने इसके बाद 2010 में हुए एशियन खेल की 3000 मीटर स्टीपलचेज स्पर्धा में स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया। 2013 एशियन चैंपियनशिप में भी स्वर्ण पदक जीतने वाली सुधा ने 2018 में जकार्ता एशियन गेम्स में रजत पदक जीता। रियो 2012 तथा लंदन 2016 ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व किया। 

क्षेत्रीय खेलकूद कार्य योजना बैठक में चारों प्रांतों के खेल प्रमुखों समेत कई लोग सम्मिलत हुए। खेल प्रमुखों से क्षेत्रीय खेलकूद प्रमुख मा. जगदीश कुमार जी ने एथलीट सुधा सिंह जी से परिचय कराया।