राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, राष्ट्र सेवा की प्रेरणा देने वाला संगठन : डॉ. पृथ्वीराज सिंह

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, राष्ट्र सेवा की प्रेरणा देने वाला संगठन : डॉ. पृथ्वीराज सिंह

गोरखपुर। सरस्वती शिशु मन्दिर (10+2) पक्कीबाग में शनिवार (21 मई 2022) को नव चयनित आचार्य प्रशिक्षण वर्ग के सातवां दिन रहा। इस अवसर पर प्रथम सत्र में बतौर मुख्य अतिथि प्रान्त संघचालक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ गोरक्ष प्रान्त डॉ. पृथ्वीराज सिंह जी ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ व्यक्ति को शारीरिक, प्राणीक ,मानसिक, अध्यात्मिक, बौद्धिक एवं राष्ट्र सेवा की प्रेरणा देने वाला संगठन है। उन्होंने बताया की कोई भी व्यक्ति कोई काम इसलिए नहीं करता है कि वह काम सही है बल्कि इसलिए करता है कि एक समूह के अच्छे लोग कर रहे हैं। स्वयंसेवक के जो गुण होते हैं, उससे उनको प्रतिष्ठा मिलती है। कभी-कभी हमारे अंदर दुविधा आ जाती है परंतु संगठन के श्रेष्ठ व्यक्ति जब हमें बताते हैं तो हमारी दुविधा समाप्त हो जाती है। 

डॉ. पृथ्वीराज सिंह जी ने आगे कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से लोगों को प्रेरणा मिलती है। पूज्य डॉक्टर हेडगेवार जी ने कहा था कि आप आदर्श की प्रतिमूर्ति बने तभी आपको सम्मान मिलेगा। डॉक्टर हेडगेवार जी एक शोषण मुक्त एवं निर्दोष समाज की संरचना करना चाहते थे। इस संगठन में समय-समय पर प्रशिक्षण दिया जाता है, ताकि व्यक्ति के अंदर विभिन्न प्रकार के नवीनतम गुण आ सकें। इस संगठन में  रामनवमी, गुरु पूर्णिमा, दुर्गा पूजा, रक्षाबंधन, रविदास जयंती डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जयंती आदि पर सामूहिक रूप से कार्यक्रम करते हैं। यह सभी कार्यक्रम हमारी एकता को प्रदर्शित करते हैं।

आदर्श  स्वयंसेवक के गुण के विषय में वर्णन करते हुए उन्होंने कहा कि संघ के स्वयंसेवक से जो कुछ कहा जाता है वह उसे पूर्ण करता है। स्वयंसेवक दायित्व को छोड़ता है, कार्य को नहीं। संघ हमें सिखाता है कि जहां पैदा हुए हैं वहां की जमीन, संस्कृति, सभ्यता, समाज के प्रति समर्पण भाव होना चाहिए। राष्ट्र के लिए व्यक्तिगत लाभ को छोड़ देना चाहिए। समरसता का भाव पैदा होना चाहिए। हम नेतृत्व करने वाला बने। हमसे जो कुछ कहा जाता है उसे पूरा किया जाय। कोई भी काम करने के लिए हमे तैयार रहना चाहिए। व्यक्ति में संयम होना चाहिए, निराश नहीं होना चाहिए। व्यक्ति से ज्यादा कार्य को महत्व देना चाहिए।

संघ में निर्मोही होकर काम करते हैं। विभिन्न प्रकार के संघ के क्रिया कलाप होते हैं पथ संचलन, शाखा, वन विहार आदि संघ के बहुत सारे कार्य हैं। सेवा, समर्पण, जन जागरण, गौ सेवा, पर्यावरण संरक्षण, परिवार प्रबोधन आदि की दिशा में संघ कार्य कर रहा है। मा. प्रान्त संघचालक में संघ के बहुत सारे सहयोगी संगठनो व उनके उद्देश्यों व कार्यों की उन्होंने चर्चा की। उन्होंने संस्कृत भारतीय, आरोग्य भारती, सहकार भारती, वनवासी कल्याण आश्रम, हिंदू जागरण मंच, किसान संघ, अधिवक्ता परिषद, भारतीय मजदूर संघ, विद्या भारती, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, भारतीय जनता पार्टी आदि संगठनों के विषय में संक्षिप्त चर्चा की।

इस अवसर पर प्रदेश निरीक्षक श्री कमलेश कुमार सिंह, प्रान्तीय मंत्री डॉ रामनाथ गुप्त, संभाग निरीक्षक श्री कन्हैया चौबे, प्रधानाचार्य डॉ राजेश सिंह सहित नव चयनित आचार्य उपस्थित रहे।