अयोध्या : शि. द. जा. स. वि. म.इं.का. तुलसीनगर में मनाया गया वीर बालक शान्तिप्रकाश का बलिदान दिवस

अयोध्या : शि. द. जा. स. वि. म.इं.का. तुलसीनगर में मनाया गया वीर बालक शान्तिप्रकाश का बलिदान दिवस
अयोध्याI शिवदयाल जासवाल सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज तुलसीनगर में वीर बालक शान्तिप्रकाश का बलिदान दिवस मनाया गया I कार्यक्रम का प्रारंभ विद्यालय के प्रधानiचार्य अवनि कुमार शुक्ल ने दीप- प्रज्ज्वलित व पुष्पार्चन कर किया तथा बताया कि देश की आजादी के लिए हजारों वीर पुरुषों, माताओं, बहिनों और नवयुवकों ने बलिदान दिया। इनमें से ही एक था 18 वर्षीय वीर बालक शान्तिप्रकाश, जिसने इस यज्ञ में 27 जुलाई, 1939 को प्राणाहुति दी।
इसका जन्म ग्राम कलानौर अकबरी (जिला गुरदासपुर, पंजाब) में हुआ था। यों तो सत्याग्रहियों और क्रान्तिकारियों पर पूरे देश में अत्याचार होते थे; पर हैदराबाद रियासत की बात ही निराली थी। वहाँ का निजाम मुस्लिम लीगी था। उसके गुण्डे सामान्य दिनों में भी हिन्दुओं पर बहुत अत्याचार करते थे। कोई मठ, मन्दिर वहाँ सुरक्षित नहीं था। निजाम की इच्छा थी कि देश स्वतन्त्र न हो। यदि हो, तो हैदराबाद रियासत को स्वतन्त्र रहने या पाकिस्तान के साथ जाने की छूट मिले। अंग्रेजों ने भी उसे खुली छूट दे रखी थी। ऐसे में स्थानीय हिन्दुओं ने निजाम के विरुद्ध आन्दोलन किया। आर्य समाज के नेतृत्व में देश भर से सत्याग्रही हैदराबाद आने लगे। उनमें में वीर बालक शान्तिप्रकाश भी था। इस अवसर पर सभी आचार्य उपस्थित रहे I