सेवा पथ की सहभागी थी भागीरथी जैन जी : बांके बिहारी पांडे

सेवा पथ की सहभागी थी भागीरथी जैन जी : बांके बिहारी पांडे

प्रयागराज l विद्या भारती से संबद्ध काशी प्रांत के रानी रेवती देवी सरस्वती विद्या निकेतन इंटर कॉलेज, राजापुर, प्रयागराज के  संगीताचार्य मनोज गुप्ता की सूचनानुसार विद्यालय के प्रधानाचार्य श्रीमान बांके बिहारी पांडे जी ने सेवापथ की सहभागी भागीरथी जैन जी की पुण्यतिथि  पर विद्यालय परिवार सहित विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की l


           उन्होंने बताया कि भारत में लम्बे समय तक नारी समाज रूढ़ियों, अन्धविश्वास और अशिक्षा से ग्रस्त रहा। ऐसे वातावरण में सरदारशहर, राजस्थान के एक सम्पन्न घर में भागीरथी जैन का जन्म हुआ। 10 वर्ष की अवस्था में उसका विवाह 20 वर्षीय मोहन जैन से हो गया। उनके पति मोहन जी की रुचि व्यापार से अधिक समाजसेवा और स्वातन्×य आन्दोलन में थी। अतः उन्होंने सर्वप्रथम अपनी पत्नी भागीरथी को ही पढ़ने के लिए प्रेरित किया। उन दिनों सरदारशहर में आन्दोलन की गतिविधियों का केन्द्र मोहनभाई का घर ही था। बीकानेर नरेश गंगासिंह जी इसके विरोधी थे। इसके बावजूद मोहन भाई ने अपने कदम पीछे नहीं हटाये। यद्यपि भागीरथी के पिता राजघराने के साथ थे; पर उन्होंने सदा अपने पति का साथ दिया। गान्धी जी से प्रेरित होकर भागीरथी ने आजीवन खादी पहनने का व्रत निभाया।


         विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करने वालों मे अनूप कुमार,सचिन सिंह परिहार,चंद्रशेखर सिंह, शैलेश सिंह यादव, अभिषेक शर्मा, पायल जायसवाल, ओंकार पांडे, संतोष कुमार तिवारी प्रथम, शैलेंद्र कुमार यादव, विद्या सागर गुप्ता, प्रवीण कुमार तिवारी, कुंदन कुमार, रामचंद्र मौर्य, अभिषेक कुमार शुक्ला, नागेंद्र कुमार शुक्ला, अजीत प्रताप सिंह, शंकरलाल पटेल, ऋचा गोस्वामी, अर्चना राय, किरन सिंह, जितेंद्र कुमार तिवारी, शिवजी राय, अनिल उपाध्याय, संतोष कुमार तिवारी द्वितीय, रविंद्र कुमार द्विवेदी, श्रवण कुमार तिवारी एवं अनुराग कुशवाहा, श्याम सुंदर मिश्रा, रुचि चंद्रा एवं कविता पांडे प्रमुख रहे।