वानप्रस्थी सेना के नायक थे जितेंद्र वीर गुप्त जी : बांके बिहारी पांडे

वानप्रस्थी सेना के नायक थे जितेंद्र वीर गुप्त जी : बांके बिहारी पांडे

प्रयागराज l विद्या भारती से संबद्ध काशी प्रांत के रानी रेवती देवी सरस्वती विद्या निकेतन इंटर कॉलेज राजापुर प्रयागराज के संगीताचार्य एवं मीडिया प्रभारी मनोज गुप्ता की सूचनानुसार विद्यालय के प्रधानाचार्य श्री बांके बिहारी पांडे जी ने वानप्रस्थी सेना के नायक जितेंद्र वीर गुप्त जी के जन्मदिवस पर विद्यालय परिवार सहित शत-शत नमन किया l


उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्य विस्तार में प्रचारकों का बड़ा योगदान है। साथ ही उस कार्य को टिकाने तथा समाज के विविध क्षेत्रों में पहुंचाने में वानप्रस्थी कार्यकर्ताओं की बहुत बड़ी भूमिका है। 11 मई, 1929 को नरवाना (हरियाणा) में संघ के वरिष्ठ कार्यकर्ता बाबू दिलीप चंद्र गुप्त के घर जन्मे श्री जितेन्द्रवीर गुप्त वानप्रस्थी कार्यकर्ताओं की मालिका के एक सुगंधित पुष्प थे। श्री जितेन्द्र जी को संघ के संस्कार घुट्टी में प्राप्त हुए थे। 1947 में बी.ए. कर वे प्रचारक होकर राजस्थान चले गये। प्रथम प्रतिबंध के समय वे बीकानेर जेल में रहे। इसके बाद दिल्ली वि.वि. से कानून की उपाधि लेकर वे पटियाला में वकालत करने लगे। 1963 में वे पंजाब प्रांत कार्यवाह बने। संघ के हिसाब से तत्कालीन पंजाब में वर्तमान पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, हिमाचल तथा जम्मू-कश्मीर आता था। 1974 में वे पंजाब वि.वि. के विधि विभाग में अंशकालीन प्राध्यापक बने। आपातकाल में उन्होंने 16 मास जेल में बिताये। 1979 में वे पंजाब-हरियाणा उच्च न्यायालय में न्यायाधीश तथा 1990 में मुख्य न्यायाधीश बनाये गये। उनके कार्य के सब प्रशंसक थे; पर जब उनकी अवहेलना कर एक कनिष्ठ न्यायाधीश को सर्वोच्च न्यायालय में भेजा गया, तो उनके स्वाभिमान पर चोट लगी और उन्होंने त्यागपत्र देकर पूरा समय संघ को समर्पित कर दिया।  

  
        शत शत नमन करने वालों मे अनूप कुमार ,सचिन सिंह  परिहार ,चंद्रशेखर सिंह, शैलेश सिंह यादव ,अभिषेक शर्मा ,पायल जायसवाल , ओंकार पांडे, संतोष कुमार तिवारी प्रथम, शैलेंद्र कुमार यादव, विद्यासागर गुप्ता, प्रवीण कुमार तिवारी, कुंदन कुमार ,रामचंद्र मौर्य, अभिषेक कुमार शुक्ला ,नागेंद्र कुमार शुक्ला, अजीत प्रताप सिंह, शंकरलाल पटेल, ऋचा गोस्वामी, अर्चना राय, किरन सिंह, जितेंद्र कुमार तिवारी, शिवजी राय ,अनिल उपाध्याय, संतोष कुमार तिवारी द्वितीय, रविंद्र कुमार द्विवेदी ,श्रवण कुमार तिवारी एवं अनुराग कुशवाहा, श्याम सुंदर मिश्रा रुचि चंद्रा एवं कविता पांडे प्रमुख रहे l