लखीमपुर: सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज पलियां में मनाई गई गोस्वामी तुलसीदास जी की जयन्ती 

लखीमपुर: सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज पलियां में मनाई गई गोस्वामी तुलसीदास जी की जयन्ती 
लखीमपुर: सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज पलियां में मनाई गई गोस्वामी तुलसीदास जी की जयन्ती 

लखीमपुर। सरस्वती विद्या मन्दिर इण्टर कॉलेज पलिया कलां खीरी में गोस्वामी तुलसीदास जी की जयन्ती मनाई गई। इस अवसर पर वरिष्ठ आचार्य श्री धनुष धारी जी ने बताया कि तुलसी दास जी की महनीय पुनीत कृति श्री रामचरितमानस है, जिसे हम मानवता का संविधान कह सकते हैं। आज से 511 वर्ष पूर्व तुलसीदास जी का जन्म आज ही के दिवस पर श्रावण शुक्ल सप्तमी को हुआ था। उनकी कृति सद्गुणत्रयी है। 
इस अवसर पर विद्यालय में निबन्ध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें विजयी प्रतिभागी पुरस्कृत किये गये। सीनियर वर्ग में आचार्य प्रफुल्ल चन्द्र राय पर आयोजित निबन्ध प्रतियोगिता में प्रथम स्थान बहन निधि गुप्ता,द्वितीय स्थान पर भैया अनवित सिंह, एवं तृतीय स्थान पर भैया मनवीर सिंह रहे। 

वहीं षष्ठ से अष्टम तक के लिए प्रोफेसर जगदीश चन्द्र बसु पर आयोजित निबन्ध प्रतियोगिता में बहन सिमरन कटियार को प्रथम स्थान, छवि राठौर व वैष्णवी मिश्रा को द्वितीय स्थान, तथा तृतीय स्थान पर बहन अनुराधा मिश्रा व सोना गुप्ता रहीं। भैया बहनों ने सभी स्थान प्राप्त प्रतिभागियों के लिए सैनिक ताल बजाकर अभिनन्दन किया। प्रधानाचार्य वीरेन्द्र वर्मा ने सभी का उत्साह वर्धन किया। तुलसी जयंती पर संबोधित करते हुए भैया बहनों को रामचरितमानस पढ़ने की सलाह दी संत के गुण बताते हुए कहा कि संत हृदय नवनीत समाना, कहा कवि ने कहा न जाना
निज परिताप द्रवई नवनीता, परहित द्रवै सो संत पुनीता। ऐसी ही अनेक चौपाइयों का विशेष वर्णन करते हुए सद संस्कारों की शिक्षा दी।