भागलपुर : विद्या भारती बिहार के क्षेत्रीय खेलकूद समारोह का शुभारंभ

भागलपुर : विद्या भारती बिहार के क्षेत्रीय खेलकूद समारोह का शुभारंभ

भागलपुर। गणपत राय सालार पुरिया सरस्वती विद्या मंदिर में बुधवार को विद्या भारती बिहार क्षेत्र के विद्यालयों का क्षेत्र स्तरीय 33वां समूह खेल-कूद समारोह का शुभारंभ हुआ। मुख्य अतिथि सहायक पुलिस अधीक्षक शुभम आरया, विद्या भारती बिहार क्षेत्र के क्षेत्रीय सचिव नकुल कुमार शर्मा ,प्रदेश सचिव प्रदीप कुमार कुशवाहा, क्षेत्रीय खेलकूद प्रमुख ब्रह्म देव प्रसाद, क्षेत्रीय अध्यक्ष अरविंद चौबे, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विभाग प्रचारक विजेंद्र कुमार, विद्यालय के अध्यक्ष डॉ. चंद्र भूषण सिंह एवं प्रधानाचार्य नीरज कुमार कौशिक ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया।

उद्घाटन समारोह में प्रस्तावना रखते हुए प्रदेश सचिव प्रदीप कुमार कुशवाहा ने कहा कि विद्या भारती 1989 से ही खेलकूद को अपने पाठ्यक्रम में महत्वपूर्ण स्थान दिया है। भारत सरकार  राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन पर कार्य कर रही है, परंतु विद्या भारती इस शिक्षा नीति के अनुसार बहुत पहले से ही आत्मसात कर छात्रों का सर्वांगीण विकास हेतु तत्पर है। पांच केंद्रीय विषयों में स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से शारीरिक शिक्षा को प्रमुख स्थान दिया गया है। आज विद्या भारती के 25000 विद्यालय हैं एवं इस विद्यालय के छात्र एसजीएफआई से लेकर राष्ट्रीय स्तर के खेलकूद प्रतियोगिता में प्रतिवर्ष भाग लेते हैं ।

वहीं समारोह को संबोधित करते हुए  क्षेत्रीय सचिव नकुल कुमार शर्मा ने कहा कि विद्या भारती के द्वारा देश के लिए अच्छे खिलाड़ियों का निर्माण किया जाता है ।आज भारत माता ऐसे वीर सपूत मांगती है जिसके मन में त्याग, बलिदान ,समर्पण एवं सच्चाई का भाव हो। परस्पर प्रेम, भाईचारा, लगनशीलता के भाव से युक्त छात्र ही जीवन में सफल होते हैं। संकल्प , निरंतर अभ्यास एवं अनुशासन हमें लक्ष्य प्राप्त करने के लिए प्रेरित करता है ।सभी छात्र प्रतिभावान होते हैं, आवश्यकता है उसके प्रतिभा को निखारने की एवं उसके सफलता के सूत्र को बताने की। अंक ज्ञान एवं अक्षर ज्ञान के साथ खेल के द्वारा छात्र अनुशासन के महत्व को भी जानते हैं ।

समारोह में मुख्य अतिथि सहायक पुलिस अधीक्षक शुभम आरया ने कहा कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन का वास होता है। अतः शारीरिक शिक्षा एवं खेलकूद छात्रों के लिए अत्यंत ही आवश्यक होता है । खेल के माध्यम से स्वस्थ शरीर के साथ-साथ मनोरंजन भी होता है। सामान्य रूप से इस उम्र में छात्रों में भटकाव भी होता है। अतः हमेशा अच्छे छात्रों के साथ मित्रता करनी चाहिए ।यह उम्र भविष्य निर्माण का रीढ़ भी माना जाता है। 

अध्यक्षीय उद्बोधन के क्रम में क्षेत्रीय अध्यक्ष अरविंद कुमार चौबे ने कहा कि जीवन में सफलता हेतु प्रतिस्पर्धा भी बहुत आवश्यक है। जीतने का जुनून हमारे सफलता के मार्ग को प्रशस्त करता है। आत्मविश्वास एवं जुनून खिलाड़ियों का एक महत्वपूर्ण गुण होते हैं। इस अवसर पर दक्षिण बिहार, उत्तर बिहार एवं झारखंड प्रदेश में संचालित विद्या मंदिर के लगभग 300 छात्र जिन्होंने प्रांतीय स्तर के कबड्डी एवं खो-खो प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त किया है, वे सभी खिलाड़ी इस क्षेत्रीय प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए उपस्थित हुए हैं। 

इस मौके पर प्रांतीय खेलकूद प्रमुख फणीश्वर नाथ ने कहा कि क्षेत्रीय प्रतियोगिता में सफलता प्राप्त करने वाले छात्र अखिल भारतीय (कबड्डी एवं खो- खो )खेलकूद प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए आगामी अक्टूबर एवं नवंबर माह में रीवा मध्य प्रदेश, देवास मध्य प्रदेश, खुर्जा उत्तर प्रदेश एवं राजस्थान जयपुर में आयोजित होने वाली प्रतियोगिता में भाग लेने जाएंगे ।अतिथि परिचय विद्यालय के प्रधानाचार्य नीरज कुमार कौशिक के द्वारा ,आभार ज्ञापन क्षेत्रीय खेलकूद प्रमुख ब्रह्म देव प्रसाद के द्वारा एवं मंच संचालन क्षेत्रीय सह खेलकूद प्रमुख सुरेश मंडल के द्वारा किया गया। प्रेरणा की यह घड़ी एकल गीत बहन पीहू पल्लवी के द्वारा प्रस्तुत किया गया ।इस अवसर पर 300 खिलाड़ियों के अतिरिक्त उनके संरक्षक आचार्य तथा विद्यालय के सभी आचार्य बंधु -भगिनी एवं मीडिया प्रभारी दीपक कुमार झा आदि उपस्थित थे।